राज्य की 14 महिलाओं को मिला तीलू रौतेली पुरस्कार

Chief Minister Pushkar Singh Dhami

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने प्रदान किए महिलाओं को पुरस्कार

35 महिलाओं को आंगनबाड़ी कार्यकत्री पुरस्कार दिये गये

पुरस्कार प्राप्त महिलाओं के खाते में दी गई पुरस्कार राशि

रिपोर्ट- मौ. फहीम ‘तन्हा’

देहरादून।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी(Chief Minister Pushkar Singh Dhami) ने राज्य स्त्री शक्ति तीलू रौतेली पुरस्कार एवं आंगनबाड़ी(Anganwadi) कार्यकत्री पुरस्कार 2022-23 प्रदान किये। इस वर्ष 14 महिलाओं को राज्य स्त्री शक्ति तीलू रौतेली(Rajya Stree Shakti Tilu Rauteli) पुरस्कार एवं 35 महिलाओं को आंगनबाड़ी कार्यकत्री पुरस्कार(Anganwadi worker award) प्रदान किया गया। सभी पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को 51-51 हजार रुपये की धनराशि उनके खाते में डिजिटल हस्तांतरित की गई।  मंगलवार को आई.आर.डी.टी सभागार सर्वे चौक में समारोह आयोजित हुआ। समारोह में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रेखा आर्य भी शामिल हुईं।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (Chief Minister Pushkar Singh Dhami)ने पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि  विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य करने वाली मातृशक्ति को सम्मानित कर वे स्वयं गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वीरांगना तीलू रौतेली(Rajya Stree Shakti Tilu Rauteli) ने 15 वर्ष की उम्र में युद्ध भूमि में अपने रण कौशल द्वारा अपने विरोधियों को परास्त किया था। अपूर्व शौर्य, संकल्प और साहस की धनी वीरांगना तीलू रौतेली को उत्तराखंड(Uttarakhand) की झांसी की रानी कहकर याद किया जाय तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। उन्होंने 15 से 22 वर्ष की आयु के मध्य सात युद्ध लड़े और अपनी वीरता और रण कौशल का परिचय दिया। राज्य सरकार ने तीलू रौतेली पुरुस्कार की धनराशि 31 हजार रुपए से बढ़ाकर 51 हजार रुपए की है, जबकि आंगनबाड़ी कार्यकत्री पुरुस्कार की धनराशि भी 21 हजार से बढ़ाकर 51 हजार रुपए की गई है। 

इस अवसर पर विधायक खजान दास, सचिव महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास हरिश्चंद्र सेमवाल एवं अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

आंगनबाड़ी बहनों का बढ़ाया मानदेय: धामी

मुख्यमंत्री ने कहा कि आंगनबाड़ी(Anganwadi) केंद्रों की स्थिति मजबूत करने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है और इस दिशा में निरंतर कार्य कर रही है। माता-पिता के बाद बच्चों को संस्कार देने की शुरुआत आंगनबाड़ी(Anganwadi) केंद्रों से ही होती है। राज्य सरकार(State Government) द्वारा आंगनबाड़ी बहनों का मानदेय 7500 रुपए से बढ़ाकर 9300 रुपए किया है। मिनी आंगनबाड़ी बहनों के मानदेय को भी 4500 से बढ़ाकर 6250 और सहायिकाओं का मानदेय 3550 से 5250 रुपए किया है।

पीएम के नेतृत्व में महिलाएं बन रहीं सशक्तःसीएम

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड (Uttarakhand)के विकास के लिए हर क्षेत्र में मातृ शक्ति की बड़ी भूमिका रही है। उत्तराखण्ड को अलग राज्य बनाने की मांग हेतु हुए आंदोलन में सबसे बड़ा बलिदान हमारी मातृशक्ति ने ही दिया था। महिलाओं के पास कौशल की कभी कोई कमी नहीं रही और अब यही कौशल उनकी और उनके परिवारों की आर्थिकी को बल प्रदान कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं को सशक्त बनाने का कार्य किया है। आज वित्तीय समावेशन से लेकर सामाजिक सुरक्षा, गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा से लेकर आवास, शिक्षा से लेकर उद्यमिता तक नारी शक्ति को भारत की विकास यात्रा में सबसे आगे रखने के लिए कई प्रयास किए गए हैं।

Shah Times Dehradun 8 August 23 E-PAPER 

सामाजिक भेदभाव समाप्त करके ही महिलाओं की तरक्कीः रेखा

महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि तीलू रौतेली के जन्मदिवस के सुवअसर पर आधुनिक तीलू रौतेली व आंगनबाडी कार्यकत्रियों का सम्मान किया जा रहा है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा महिला सशक्तीकरण के लिए राज्य में लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। दोनों पुरुस्कारों की धनराशि बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि सामाजिक भेदभाव समाप्त कर ही समाज में महिलाओं की तरक्की सुनिश्चित हो सकती है।  उन्होंने तीलू रौतेली एवं ऑगनबाड़ी पुरूस्कार प्राप्त करने वाली महिलाओं को बधाई दी।

शाह टाइम्स की ताज़ा खबरों और ई – पेपर के लिए लॉगिन करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here