देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी पर बायोपिक

Bedi shahtimesnees

किरण बेदी साल 1972 में देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी बनी थी। 35 सालों तक देश की सेवा करने के बाद उन्होंने 2007 में रिटायरमेंट ले लिया। उस समय वह ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट के महानिदेशक के पद पर थीं।

~ Neelam Saini

नई दिल्ली,( Shah Times)। देश की प्रथम महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी पर बायोपिक बनाई जा रही है। इस फिल्म में किरण बेदी के जीवन को दर्शाया जाएगा। 

फिल्म का नाम ‘बेदी: द नेम यू नो..द स्टोरी यू डोंट’ होगा। इसके निर्देशक और लेखक कुशाल चावला हैं। इसका निर्माण ‘ड्रीम स्लेट पिक्चर्स’ के बैनर तले किया जाएगा। निर्माताओं के अनुसार, फिल्म में बेदी के जीवन के उन हिस्सों को सामने लाया जाएगा जिससे अभी तक लोग अनजान हैं। किन चुनौतियों का आईपीएस किरण बेदी को सामना करना पड़ा, उनके माता-पिता से लेकर बाकी चीजें भी बायोपिक में दिखेंगी।

 मीडिया से बातचीत करते हुए किरण बेदी ने बताया कि पहले भी कई बार उनपर फिल्म बनाने का ऑफर मिल चुका है।  लेकिन अब उन्हें लगता है कि सही समय आ चुका है। उन्होंने आगे कहा कि, जब कुशाल अपने पिता प्रोड्यूसर गौरव चावला संग इस प्रस्ताव के साथ आए, तो वो इसके लिए पूरी तरह से तैयार थे।

 जिसके बाद उन्होंने हां कर दिया। बेदी ने एक बयान में कहा है कि यह कहानी सिर्फ मेरी कहानी नहीं है। यह एक भारतीय महिला की कहानी है। एक भारतीय महिला जो भारत में पली-बढ़ी, भारत में पढ़ाई की, भारतीय माता-पिता से जिसकी परवरिश की। मेरी कहानी नौ साल की उम्र से शुरू हो गई जब मेरे पिता ने मुझसे कहा था कि जीवन एक ढलान है, या तो आप ऊंचाई की ओर जाएंगे या नीचे आएंगे’। 

बेदी ने आगे कहा कि उनकी मां ने उनसे कहा था कि उन्हें एक ऐसा इंसान बनना चाहिए जो दूसरों की मदद कर पाए न कि जिसकी दूसरे मदद करें। ये दोनों बातें मेरे मार्गदर्शक सिद्धांत बने रहे। 

फिलहाल यह तय नहीं हुआ है कि बायोपिक में किरण बेदी की भूमिका कौन निभाएगा। किरण बेदी ने कहा कि फिल्म 2025 में रिलीज होगी। यह एक वैश्विक फिल्म होगी, जिसमें एक भारतीय महिला स्क्रीन पर होगी। इसे भारतीय क्रू द्वारा बनाया जाएगा।  किरण के आज भी कई किस्से कहे-सुने जाते हैं। 

किरण बेदी साल 1972 में देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी बनी थी। 35 सालों तक देश की सेवा करने के बाद उन्होंने 2007 में रिटायरमेंट ले लिया। उस समय वह ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट के महानिदेशक के पद पर थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here