भारतीय वायुसेना का 10 अप्रैल तक चलेगा गगन शक्ति अभ्यास..

एएन 32 विमान से 20 जवानों ने पैराशूट से चिन्यालीसौड़ हवाई अड्डे पर की सफल लैंडिंग।

उत्तरकाशी/चिरंजीव सेमवाल (Shah Times )। भारतीय वायुसेना का चिन्यालीसौड़ स्थिति हवाई अड्डे पर गगन शक्ति सैन्य अभ्यास चल रहा जो 10 अप्रैल तक चलेगा। 18000 फीट की ऊंचाई पर से एएन 32 विमान से 20 जवानों ने पैराशूट से चिन्यालीसौड़ हवाई अड्डे पर लैंडिंग की। चिन्यालीसौड़ हवाई अड्डे पर वायुसेना ने रविवार और सोमवार को गगन शक्ति के तहत हवाई सैन्य अभ्यास किया। वायुसेना के मालवाहक 2 विमानों ने एएन 32 ने रनवे पर लैंडिंग व टेकऑफ किया। बताया दें कि मालवाहक विमान आगरा एयरबेस से दो एनएन 32 विमानों ने आसमान में करीब एक घंटे तक अभ्यास किया।इधर वायुसेना सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 7 से 10 अप्रैल तक गगन शक्ति हवाई सैन्य अभ्यास किया जा रहा है। वायुसेना के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर राजस्थान के पोखरण से पश्चिमी व उत्तरी सीमा क्षेत्र में अभ्यास के लिए पहुंचे हैं।वही वायुसेना के गोरखपुर एयरबेस से दो एमआई 17 हेलिकॉप्टर भी हेलीपैड पर पहुंचे हैं। रविवार को दोनों एमआई 17 हेलिकॉप्टरों ने साढ़े नौ बजे टिहरी की ओर उड़ान भरी। वहीं, आगरा एयरबेस से पहुंचे एएन 32 विमान ने सुबह साढ़े आठ और साढ़े 10 बजे दोबारा आसमान में अभ्यास किया।एमआई 17 हेलीकॉप्टरों ने उत्तरकाशी होते हुए चीन सीमा से सटे हर्षिल तक की उड़ान भरी। इसके बाद दोनों हेलीकॉप्टर गौचर चमोली की ओर रवाना हो गए। बाद में दोनों एएन 32 विमान आगरा एयरबेस लौट गए।जबकि, एमआई 17 हेलीकॉप्टर हवाई अड्डे पर ही मौजूद हैं। बताया जा रहा है कि अभी 10 अप्रैल तक यह अभ्यास जारी रहेगा।उल्लेखनीय है भारतीय वायु सेना (एआईएफ) देश का सबसे बड़ा हवाई सैन्य अभ्यास ‘गगन शक्ति-2024’ का आयोजन करने जा रही है। 10 दिवसीय ‘गगन शक्ति-2024’ युद्धाभ्यास में देश के सभी वायु सेना स्टेशन की भागीदारी होगी।1 अप्रैल 2024 से पोखरण स्थित फील्ड फायरिंग रेंज में इस युद्धाभ्यास का आयोजन किया जाएगा। 10 दिवसीय इस युद्धाभ्यास में वायु सेना के करीब 10 हजार वायु सैनिक भाग लेंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार इसमें पश्चिमी और उत्तरी दोनों मोर्चों को शामिल किया जाएगा।

#Indian Air Force

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here