गर्मी के साथ-साथ बिना वीजा हज यात्रा करना पड़ रहा है महंगा

Oplus_0

सऊदी अरब में हज यात्रा के दौरान अब तक 1150 हज यात्रियों की मौत हो चुकी है। इनमें से 658 मिस्र के नागरिक हैं। इसके बाद इंडोनेशिया के 199 और भारत के 98 लोग हैं। वहीं, जॉर्डन के 75, ट्यूनीशिया के 49, पाकिस्तान के 35 और ईरान के 11 हज यात्रियों की मौत की खबर सामने आ रही है।

New Delhi ,( Shah Times) ।सऊदी अरब में हज यात्रा के दौरान अब तक 1150 हज यात्रियों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 658 मिस्र के नागरिक बताए जा रहे है। इसके बाद इंडोनेशिया के 199 और भारत के 98 हैं। वहीं जॉर्डन से 75, ट्यूनीशिया से 49 पाकिस्तान से 35 और ईरान से 11 हज यात्रियों की मौत की खबर सामने आ रही है।

मरने वाले 630 लोग बिना वीजा के कर थे हजयात्रा

सऊदी अरब ने अभी तक अपने नागरिकों की कुल मौत का आंकड़ा जारी नहीं किया है, इसलिए आशंका जताई जा रही है कि मरने वालों की संख्या और बढ़ेगी। मिस्र के मारे गए 658 हज यात्रियों में से 630 बिना वीजा के हज के लिए गए थे। इस कठिन परेशानी से निपटने के लिए मिस्र ने क्राइसिस सेंटर का गठन किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हज यात्रा के दौरान मरे हुए यात्रियों के शव सड़कों पर ही पड़े हुए थे। इन्हीं के बीच से बाकी यात्री हज करने जा रहे थे।

गर्मी बन रही हैं हज यात्रियों की मौत की वजह

इस साल बड़ी संख्या में हज यात्रियों के मरने के पीछे की बड़ी वजह भीषण गर्मी का होना बताया जा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार 4 साल में मक्का का तापमान 8 डिग्री तक बढ़ा हुआ दर्ज किया गया है। मक्का में तापमान 42 डिग्री सेल्सियस से 50 डिग्री तक पहुंचने के कारण कई हज यात्रियों की लू के चलते मौत हो गई। सऊदी सरकार के मुताबिक, अब तक 2,700 से ज्यादा हज यात्री हीट स्ट्रोक की चपेट में आ चुके हैं। पैरामेडिकल टीम ने कई बीमार हज यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कराया।

टूर ऑपरेटरों पर लगा धोखाधड़ी का आरोप

हज पर जाने के लिए हज यात्री टूर ऑपरेटर का भी सहारा लेते हैं। इसके लिए ऑपरेटर पैकेज लेकर उचित सुविधा जैसे रहने, खाने और ट्रांसपोर्ट जैसी तमाम जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने का वादा करते हैं। हालांकि मिस्र के सांसद महमूद कासिम ने टूर ऑपरेटरों पर हज यात्रियों के साथ धोखाधड़ी का करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कई हज यात्रियों को टूर ऑपरेटरों द्वारा उचित सुविधाएं नहीं दी गई है। जिससे उन्हें कठिनाइयों का सामना करना पड़ा और उनकी मौत हो गई।

Oplus_0

16 टूर ऑपरेटर कंपनियों के लाइसेंस रद्द

मिस्र ने हज यात्रियों से धोखाधड़ी करने वाली टूर ऑपरेटर कंपनियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। पीएम मुस्तफा ने 16 कंपनियों के लाइसेंस रद्द करने के साथ साथ इन कंपनियों पर मुकदमा चलाने और जुर्माना लगाने का भी आदेश दिया है। इसी के साथ जुर्माने से जब्त राशि को हज यात्रा के दौरान हादसे का शिकार हुए लोगों में बांटने एलान किया गया है। दूसरी तरफ, बड़ी संख्या में मौतों के कारण ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति ने धार्मिक मामलों के मंत्री को बर्खास्त कर दिया।

बिना वीजा के हज यात्रा करने से बढ़ी समस्या

आपको बता दे की हज यात्रा के लिए हज वीजा की जरूरत होती है। मगर कुछ लोग इसके बजाय टूरिस्ट वीजा लेकर सऊदी आते हैं और हज पर चले जाते हैं। सऊदी अधिकारियो का कहना हैं की बिना रजिस्ट्रेशन के हज पर आने से इस बार भीड़ बढ़ गई।
दूसरी तरफ, बिना वीजा हज के लिए आने वाले लोग स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होने पर भी प्रशासन से बचने की कोशिश करते हैं। इन कारणों से भी इस साल मौत की संख्या में इजाफा हुआ है। दरअसल, हज यात्रियों की पहचान के लिए नुसुक कार्ड जारी होता है। हालांकि, इनकी संख्या ज्यादा होने के कारण बिना हज वीजा के आए लोगों की पहचान करना मुश्किल होता है, जिस कारण टूरिस्ट भी हज करने में सफल हो जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here