यमुना नदी में पिछले कई दिनों से बड़ी संख्या में मर रही हैं मछलियां

ग्रामीणों की मानें तो फैक्ट्रियों के कैमिकल युक्त पानी के कारण मछलियों की मौत हुई है।

~ Neelam Saini

New Delhi (Shah Times)। राजधानी दिल्ली के बुराड़ी और उसके आसपास यमुना नदी में पिछले कई दिनों से बड़ी संख्या में मछलियां मर रही हैं। मृत अवस्था में मछलियों के मिलने से एक ओर जहां हड़कंप मचा हुआ है तो वहीं दूसरी ओर इसे लेकर चिंता भी जाहिर की जा रही है।

यमुना नदी में मछली मारने से इलाके के मछुआरों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मछलियों के मरने से आ रही दुर्गंध से ग्रामीण परेशान हैं। जब इस बारे में मछुआरों से बात की तो उन्होंने बताया कि जाल लगाने पर मरी हुई मछलियां आ रही हैं।

पहले हम यमुना के पानी का कई तरह से इस्तेमाल करते थे, जिस पानी को हम पिया करते थे आज वो कचरा हो गया है। बताया जा रहा है कि पानी में छोड़ा गया कचरे और गंदा पानी मछलियों के मरने की वजह है। पहले यहां पानी साफ हुआ करता था, लेकिन अब हालात कुछ और हैं। मरी हुई मछलियों के कारण रोजगार खत्म हो गया है। लोग मछली पकड़कर रोजाना हजार-पांच सौ, दो सौ रुपए कमा लिया करते थे लेकिन अब स्थिति बदल गई। मरी हुई मछलियों के कारण आमदनी पर बुरा असर पड़ रहा है। ये हालात पिछले चार-पांच दिनों से देखने को मिल रहे है।

मछुआरों का कहना है कि, पानी से लगातार बदबू आ रही है। मछुआरों ने कहा कि किसी ने यमुना नदी में गंदा पानी छोड़ा है, जिसकी वजह से ये हालात बने हुए हैं। फिलहाल इतनी संख्या में मछलियों के मरने के कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है।

ग्रामीणों की मानें तो फैक्ट्रियों के कैमिकल युक्त पानी के कारण मछलियों की मौत हुई है। यमुना से पिछले चार-पांच दिनों में बड़ी संख्या में मछलियों के मरने की घटनाएं सामने आ रही हैं। मछुआरों का कहना है कि यमुना का पानी पिछले कुछ दिनों से बेहद गंदा हो रहा है। हालांकि, बीते गुरुवार से यमुना में पानी का बहाव में तेज होने के बाद यहां मरी मछलियों की तादाद में कमी आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here